मेरी सोच, समाज

सामाजिक खेल

समाज, एक ऐसा शब्द जो दर-ब-दर हमारे आस पास घूमता है.. मंडराता है.. डराता है.. धमकाता है.. बांधे रखता है..
इस शब्द से रिश्ता ज़िन्दगी के पहले अक्षर से जुड़ जाता है..
हम क्या खाते हैं, क्या पीते हैं, कैसे उठे-बैठते हैं, कैसे चलते हैं, क्या कार्य करते हैं, किससे मिलते हैं, कहाँ जाते हैं, कहाँ नहीं जाते हैं, इत्यादि.. सब कुछ समाज ही निर्धारित करता है..
हम स्वयं तो कुछ हैं ही नहीं.. हम हमारी सोच को समाज के अनुसार निर्धारित करते हैं न कि अपनी इच्छाओं और कार्य-प्रबलता के अनुसार..

कुछ भी निर्णय लेने से पहले हमारे ज़हन में स्वतः ही यह ख्याल आता है कि “समाज क्या कहेगा? समाज क्या सोचेगा?”
समाज किसी एक इंसान का संबोधन नहीं है जो कि बहुत शक्तिशाली हो या अजेय हो.. वह तो हर आम-इंसानों से बना एक कुनबा है..
पर इस कुनबे से सब डरते हैं.. भयभीत रहते हैं..

समाज हम सबको एक-दूसरे से जोड़ता है पर भीतर ही भीतर हमारे दिली निर्णयों से तोड़ता भी है..
इसका भय ही है जो न जाने कितने लोगों की तमन्नाओं को राख कर देता है..
भविष्य और जिन्दगियां समाज के बहाव के अनुसार निश्चित की जाती हैं..
माँ-बाप कहते हैं कि मेरा बेटा इंजिनियर बनेगा या डॉक्टर बनेगा क्योंकि समाज में आजकल यही चलन है..
माँ-बाप कहते हैं कि मेरी बेटी अपने समाज में ही विवाह करेगी क्योंकि समाज में आजकल यही चलन है..
यह चलन कौन चलाता है?
कोई नहीं.. मैं नहीं, आप नहीं, कोई और नहीं..
और सभी कोई…. मैं, आप और हर कोई..

मैं यह व्यवसाय कर सकता हूँ कि नहीं, यह समाज की सोच के अनुसार सोचना पड़ता है..
मैं फलाने परिवार से जोड़ बना सकता हूँ कि नहीं, यह भी समाज ही निर्धारित करता है..
अनजाने में ही सही पर समाज ही एक मात्र शक्तिशाली प्रणाली है जो यह दुनिया चलाती है..

समाज और धर्म का बड़ा ही गहरा नाता है.. दोनों ने मनुष्य को अच्छे काम करने से रोका है.. और बुरे काम करने से भी..
पर दुर्भाग्य यह है कि आज समाज चुनिंदे लोगों के इशारों और हसरतों पे चलती है.. पैसा समाज को चला रहा है… मूलभूत मान्यताएं नहीं..
इसे समाज नहीं कहा जा सकता पर कहना पड़ रहा है.. दुर्भाग्यवश..

जो इस समाज से कभी नहीं डरते और अपने सारे निर्णय अपने दिल-ओ-दिमाग से ही लेते हैं वह इस भेड़-चाल से बिलकुल जुदा हैं..
उसे एक राई फर्क नहीं पड़ता कि समाज क्या सोचेगा या करेगा.. वह अपनी धुन में अपनी ज़िन्दगी को जिंदा-दिली से जीता है..
ऐसे लोग ही हैं जो समाज की सोच में बदलाव लाते हैं.. अगर आपको समाज में बदलाव लाना है तो उसके भीतर से नहीं वरन बाहर से लाना होगा..
यह प्रणाली प्रजातंत्र में बदलाव लाने के बिलकुल विपरीत है.. पर सत्य यही है..

जो समाज को ताक पे रख कर मानवता के लिए अच्छे काम करते हैं, कई सालों बाद वही समाज उसे पूजता है..
चाहे वो नेता हो, खिलाड़ी हो, गायक हो, नायक हो, सिपाही हो या कारोबारी..

समाज एक जकड़न है जिससे कुछ-कुछ लोगों को बाहर निकलकर इसकी दिशा को सही करते रहना होगा..
हर कोई इसके बाहर निकल गया तो फिर समाज टूट जाएगा जो कि मानवता के लिए हानिकारक है क्योंकि समाज के डर से कई जघन्य अपराध और कार्य नहीं होते हैं..
समाज का इस्तेमाल, समाज की भलाई के लिए करने से ही समाज निर्माण का सही अर्थ हमारे सामने उभरेगा और यह दुनिया एक बेहतर जगह बन सकेगी..

Advertisements
Standard

7 thoughts on “सामाजिक खेल

  1. समाज का इस्तेमाल, समाज की भलाई के लिए करने से ही समाज निर्माण का सही अर्थ हमारे सामने उभरेगा,

    Like

  2. जागरूक समाज…सदैव प्रगति करते गये…अकर्मण्य समाज बंधन बनता गया…केकड़ा प्रवृति…ना तो खुद ऊपर उठने को तैयार है…ना किसी को ऊपर उठने देती है…

    Like

  3. अत्यंत रचनात्मक लेख! सामाजिक परिवर्तन के लिए ऐसे ही विचारों को बढ़ावा देने की आवश्यकता है|

    Like

ज़रा टिपियाइये

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s